ISSN 2277 260X   

 

International Journal of

Higher Education and Research


 

 

Friday, 17. November 2017 - 13:35 Uhr

पुस्तक समीक्षा : गीत अपने ही सुने का प्रेम-सौंदर्य - अवनीश सिंह चौहान


geet-apne-hi-suneहिन्दी साहित्य की सामूहिक अवधारणा पर यदि विचार किया जाए तो आज भी प्रेम-सौंदर्य-मूलक साहित्य का पलड़ा भारी दिखाई देगा; यद्यपि यह अलग तथ्य है कि समकालीन साहित्य में इसका स्थान नगण्य है। नगण्य इसलिए भी कि आज इस तरह का सृजन चलन में नहीं है, क्योंकि कुछ विद्वान नारी-सौंदर्य, प्रकृति-सौंदर्य, प्रेम की व्यंजना, अलौकिक प्रेम आदि को छायावाद की ही प्रवृत्तियाँ मानते हैं। हिन्दी साहित्य की इस धारणा को बहुत स्वस्थ नहीं कहा जा सकता। कारण यह कि जीवन और साहित्य दोनों अन्योन्याश्रित हैं, यही दोनों की इयत्ता भी है और इसीलिये ये दोनों जिस तत्व से सम्पूर्णता पाते हैं वह तत्व है- प्रेम-राग। 
 
इस दृष्टि से ख्यात गीतकवि और आलोचक वीरेन्द्र आस्तिक जी का सद्यः प्रकाशित गीत संग्रह ‘गीत अपने ही सुनें' एक महत्वपूर्ण कृति मानी जा सकती है। बेहतरीन शीर्षक गीत- "याद का सागर/ उमड़ आया कभी तो/ गीत अपने ही सुने" सहित इस कृति में कुल 58 रचनाएं हैं जो तीन खण्डों में हैं, यथा- 'गीत अपने ही सुनें', 'शब्द तप रहा है' तथा 'जीवन का करुणेश'। तीन खण्डों में जो सामान्य वस्तु है, वह है- प्रेम सौंदर्य। यह प्रेम सौंदर्य वाह्य तथा आन्तरिक दोनों स्तरों पर दृष्टिमान है। शारीरिक, मानसिक और बौद्धिक सौंदर्य का संतुलित समावेश कर सारभौमिक तत्व को उजागर करते हुए कवि संघर्ष और शान्ति (वार एन्ड पीस) जैसे महत्वपूर्ण उपकरणों से जीवन में आए संत्रास को खत्म करना चाहता है; क्योंकि तभी कलरव (प्रकृति) रूपी मूल्यवान प्रेम तक पहुँचा जा सकता है- "सामने तुम हो, तुम्हारा/ मौन पढ़ना आ गया/ आँधियों में एक खुशबू को/ ठहरना आ गया। देखिये तो, इस प्रकृति को/ सोलहो सिंगार है/ और सुनिये तो सही/ कैसा ललित उद्गार है/ शब्द जो
​अ​
व्यक्त था/ अभिव्यक्त करना आ गया। धान-खेतों की महक है/ दूर तक धरती हरी/ और इस पर्यावरण में/तिर रही है मधुकरी/ साथ को, संकोच तज/ संवाद करना आ गया। शांतिमय जीवन;/ कठिन संघर्ष है/ पर खास है/ मूल्य कलरव का बड़ा/ जब हर तरफ संत्रास है/ जिन्दगी की रिक्तता में/ अर्थ भरना आ गया।" 

veerendra-aastik-1आस्तिक जी का मानना है कि कवि की भावुकता ही वह वस्तु है जो उसकी कविता को आकार देती है; क्योंकि सौंदर्य न केवल वस्तु में होता है, बल्कि भावक की दृष्टि में भी होता है। कविवर बिहारी भी यही कहते हैं "समै-समै सुन्दर सबै रूप कुरूप न होय/मन की रूचि जैसी जितै, तित तेती रूचि होय।" शायद इसीलिये आस्तिक जी की यह मान्यता भाषा-भाव-बिम्ब आदि प्रकृति उपादानों के विशेष प्रयोगों द्वारा सृजित उनके गीतों को सर्वांग सुन्दर बना देती है। समाज, घर-परिवेश और दैन्य जीवन के शब्द-चित्रों से लबरेज उनके ये गीत प्रेम की मार्मिक अनुभूति कराने में सक्षम हैं- "दिनभर गूँथे/ शब्द,/ रिझाया/ एक अनूठे छंद को/ श्रम से थका/ सूर्य घर लौटा/ पथ अगोरती मिली जुन्हाई/ खूँद रहा खूँटे पर बछड़ा/ गइया ने हुंकार लगायी/ स्वस्थ सुबह के लिये/ चाँदनी/ कसती है अनुबंध को।" 
 
जीवन के अंतर्द्वंद्वों की कविताई करना इतना सरल भी नहीं है। उसके लिए कठिन तपश्यर्चा की आवश्यकता होती है। कवि यह सब जानता है- "गीत लिखे जीवन भर हमने/ जग को बेहतर करने के/ किन्तु प्रपंची जग ने हमको/ अनुभव दिये भटकने के/ भूलें, पल भर दुनियादारी/ देखें, प्रकृति छटायें/ पेड़ों से बतियायें।" इतना ही नहीं, कहीं-कहीं कवि की तीव्र उत्कंठा प्रेम को तत्व-रूप में देखने की होती है, तब वह इतिहास और शोध-संधानों आदि को भी खंगाल डालता है; तिस पर भी उसके सौंदर्य उपादान गत्यात्मक एवं लयात्मक बने रहते हैं और मन पर सीधा प्रभाव डालते हैं। कभी-कभी तो वह स्वयं के बनाए मील के पत्थरों को भी तोड़ डालता है, कुछ इस तरह- "मुझसे बने मील के पत्थर/ मुझसे ही टूट गए/ पिछली सारी यात्राओं के/ सहयात्री छूट गए/ अब तो अपने होने का/ जो राज पता चलता है/ उससे/ रोज सामना होता है"  और - "हूँ पका फल/ अब गिरा मैं तब गिरा/ मैं नहीं इतिहास वो जो/ जिन्दगी भर द्रोण झेले/ यश नहीं चाहा कभी जो/ दान में अंगुष्ठ ले ले/ शिष्य का शर प्रिय/जो सिर मेरे टिका।" 
 
निष्कर्ष रूप में कहना चाहता हूँ कि जीवन के शेषांश में समग्र जीवन को जीने वाले वीरेन्द्र आस्तिक जी की पुस्तक ‘गीत अपने ही सुने’ के गीत इस अर्थ में संप्रेषणीय ही नहीं, रमणीय भी हैं कि प्रेम-सौंदर्य के बिना जीवन के सभी उद्देश्य निरर्थक-सेे हो जाते हैं। विश्वास है कि सहृदयों के बीच यह पुस्तक अपना स्थान सुनिश्चित कर सकेगी।

पुस्तक : गीत अपने ही सुने                   
कवि : वीरेन्द्र आस्तिक
ISBN: 978-81-7844-305-8
प्रकाशक : के के पब्लिकेशन्स, 4806/24, भरतराम रोड, दरियागंज, नई दिल्ली-2        
प्रकाशन वर्ष : 2017, पृष्ठ : 128, मूल्य: रु 395/-
 

समीक्षक :
 
abnish-singh-chauhan-1युवा कवि, अनुवादक, सम्पादक डॉ अवनीश सिंह
​ चौहान
का जन्म 04 जून, 1979, चन्दपुरा (निहाल सिंह), इटावा (उत्तर प्रदेश) में हुआ। शिक्षा: अंग्रेज़ी में एम०ए०, बी०एड०, एम०फिल० एवं पीएच०डी०। 'शब्दायन' एवं 'गीत वसुधा' आदि समवेत संकलनों में आपके गीत और मेरी शाइन (आयरलेंड) द्वारा सम्पादित अंग्रेजी कविता संग्रह 'ए स्ट्रिंग ऑफ़ वर्ड्स' (2010) एवं डॉ चारुशील एवं डॉ बिनोद द्वारा सम्पादित अंग्रेजी कवियों का संकलन "एक्जाइल्ड अमंग नेटिव्स" में रचनाएं संकलित। आपकी आधा दर्जन से अधिक अंग्रेजी भाषा की पुस्तकें कई विश्वविद्यालयों में पढ़ी-पढाई जा रही हैं। आपका गीत संग्रह 'टुकड़ा कागज़ का' काफी चर्चित हुआ। आपने 'बुद्धिनाथ मिश्र की रचनाधर्मिता' पुस्तक का संपादन किया है। आप वेब पत्रिका पूर्वाभास के सम्पादक हैं। 'अंतर्राष्ट्रीय कविता कोश सम्मान', मिशीगन- अमेरिका से 'बुक ऑफ़ द ईयर अवार्ड', राष्ट्रीय समाचार पत्र 'राजस्थान पत्रिका' का 'सृजनात्मक साहित्य पुरस्कार', अभिव्यक्ति विश्वम् (अभिव्यक्ति एवं अनुभूति वेब पत्रिकाएं) का 'नवांकुर पुरस्कार', उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान- लखनऊ का 'हरिवंशराय बच्चन युवा गीतकार सम्मान' आदि से अलंकृत।


Tags: गीत अपने ही सुने अवनीश सिंह चौहान Virendra Astik Abnish Singh Chauhan Book Review Hindi Literature Criticism वीरेन्द्र आस्तिक 

10 Views

0 Comments

Thursday, 9. November 2017 - 12:10 Uhr

A Signature Workshop by GOPTA


gopta-1

 

Honoured to have been invited to a signature workshop on 'How To Add 50000 Productive Hours To Your Life' organized by GOPTA at India International Center, New Delhi on Aug 20, 2017. The workshop was highly successful and profoundly memorable due to the captivating and motivational discourses of my dear friend Mr Sanjay Kumar Agarwal, the rising star of modern India. Thankful to Sanjay Ji, dear Prakhar, energetic Lalima and benign Sanjay Sharan Sir (IRS) for their wonderful company. - Abnish Singh Chauhan


gopta3

Remarks:

 

Thanks, Abnish Sir. It was my pleasure and privilege to have your gracious presence in my workshop. All of the participants benefitted from your thoughts and lively stories from your vast reservoir of experience and learning. Hope to see you again, sir, in my next workshop titled, 'Success Unlimited- Unlock Your True Potential' at India International Center, New Delhi on Nov 19, 2017.

 

- Sanjay Kumar Agarwal, Chairman & CEO, GOPTA Success Pvt. Ltd.

 

Dear Dr Chauhan, congratulations for remarkable invitations from VIPs for active and contributive participation in excellent programs. There are a few persons like you who are invited for chairing university, state, national and international level conferences, workshops and seminars. Keep it up.

 

- Dr P M Gaur, Professor & Head, Department of Hindi, SRMU, Delhi-NCR, Sonepat​


 


Tags: Workshop SRM University  GOPTA Sanjay Kumar Agarwal Dr P M Gaur Dr Abnish Singh Chauhan Dr Abnish Singh Abnish Singh Chauhan 

7 Views

0 Comments

Tuesday, 31. October 2017 - 15:00 Uhr

संस्मरण : अभी मन भरा नहीं - अवनीश सिंह चौहान


indra-3सुविख्यात साहित्यकार श्रद्देय देवेन्द्र शर्मा 'इन्द्र' जी (साहिबाबाद-गाज़ियाबाद) से कई बार फोन पर बात होती— कभी अंग्रेजी में, कभी हिन्दी में, कभी ब्रज भाषा में। बात-बात में वह कहते कि ब्रज भाषा में भी मुझसे बतियाया करो, अच्छा लगता है, आगरा से हूँ न इसलिए। उनसे अपनी बोली-बानी में बतियाना बहुत अच्छा लगता। बहुभाषी विद्वान, आचार्य इन्द्र जी भी खूब रस लेते, ठहाके लगाते, आशीष देते, और बड़े प्यार से पूछते— कब आओगे? हर बार बस एक ही जवाब— अवश्य आऊँगा, आपके दर्शन करने। बरसों बीत गए। कभी जाना ही नहीं हो पाया, पर बात होती रही।

इधर पिछले दो-तीन वर्ष से मेरे प्रिय मित्र रमाकांत जी (रायबरेली, उ.प्र.) का आग्रह रहा कि कैसे भी हो इन्द्र जी से मिलना है। उन्हें करीब से देखना है, जानना-समझना है। पिछली बार जब वह मेरे पास दिल्ली आये, तब भी सोचा कि मिल लिया जाय। किन्तु, पता चला कि वह बहुत अस्वस्थ हैं, सो मिलना नहीं हो सका। एक कारण और भी। मेरे अग्रज गीतकार जगदीश पंकज जी जब भी मुरादाबाद आते, मुझसे सम्पर्क अवश्य करते। उनसे मुरादाबाद में कई बार मिलना हुआ, उठना-बैठना हुआ। फोन से भी संवाद चलता रहा। उन्होंने भी कई बार घर (साहिबाबाद) आने के लिए आमंत्रित किया। प्रेमयुक्त आमंत्रण। सोचा जाना ही होगा। जब इच्छा प्रबल हो और संकल्प पवित्र, तब सब अच्छा ही होता है। 29 अक्टूबर 2017, दिन रविवार को भी यही हुआ।

सुखद संयोग, कई वर्ष बाद ही सही, कि रायबरेली से प्रिय साहित्यकार रमाकान्त जी का शनिवार को दिल्ली आना हुआ; कारण— हंस पत्रिका द्वारा आयोजित 'राजेन्द्र यादव स्मृति समारोह' में सहभागिता करना। बात हुई कि हम दोनों कार्यक्रम स्थल (त्रिवेणी कला संगम, तानसेन मार्ग, मंडी हाउस, नई दिल्ली) पर मिलेंगे। मिले भी। कार्यक्रम के उपरांत मैं उन्हें अपने फ्लैट पर ले आया। विचार हुआ कि कल श्रद्धेय इन्द्र जी का दर्शन कर लिया जाय और इसी बहाने गाज़ियाबाद के अन्य साहित्यकार मित्रों से भी मुलाकात हो जाएगी। सुबह-सुबह (रविवार को) जगदीश पंकज जी से फोन पर संपर्क किया, मिलने की इच्छा व्यक्त की। उन्होंने सहर्ष अपनी स्वीकृति दी और साधिकार कहा कि दोपहर का भोजन साथ-साथ करना है।

indra-5फिर क्या था हम जा पहुंचे उनके घर। सेक्टर-दो, राजेंद्रनगर। समय- लगभग 12 बजे, दोपहर। स्वागत-सत्कार हुआ। मन गदगद। अग्रज गीतकार संजय शुक्ल जी भी आ गए। हम सभी लगे बतियाने। देश-दुनिया की बातें— जाति, धर्म, राजनीति, साहित्य पर मंथन; यारी-दोस्ती, संपादक, सम्पादकीय की चर्चा; दिल्ली, लखनऊ, इलाहबाद, पटना, भोपाल, कानपुर पर गपशप। बीच-बीच में कहकहे। सब कुछ आनंदमय। वार्ता के दौरान दो-तीन बार पंकज जी का फोन घनघनाया। वरिष्ठ गीतकार कृष्ण भारतीय जी एवं साहित्यकार गीता पंडित जी के फोन थे। पंकज जी ने उन्हें अवगत कराया कि रमाकांत और अवनीश उनके यहाँ पधारे हैं। नमस्कार विनिमय हुआ। पंकज जी ने भारतीय जी से बात भी करवायी। पता चला कि भारतीय जी की सहधर्मिणी का निधन हो गया, सुनकर बड़ा कष्ट हुआ, हमने सुख-दुःख बाँटे। रमाकांत जी ने भी उन्हें सांत्वना दी। रमाकांत जी ने फोन पंकज जी को दे दिया। भारतीय जी ने पंकज जी से आग्रह किया कि उनकी पुस्तक हमें दे दी जाय।
भारतीय जी की ओर से शुभकामनाएं लिखकर पंकज जी ने उनका सद्यः प्रकाशित गीत संग्रह 'हैं जटायु से अपाहिज हम' मुझे और रमाकांत जी को सप्रेम भैंट किया; संजय शुक्ल जी ने भी अपना गीत संग्रह 'फटे पाँवोँ में महावर' उपहारस्वरुप प्रदान किया। पंकज जी से न रहा गया, बोले कि एक फोटो हो जाय। सहयोग और सहभागिता के लिए उन्होंने अपनी धर्मपत्नी जी को बुलाया और दोनों सदगृहस्थों ने बड़ी आत्मीयता से हम सबका फोटो खींचा।

indra-2तीन बजने वाले थे। बिना देर किये  देवेन्द्र शर्मा 'इन्द्र' जी के यहाँ पहुंचना था, क्योंकि उन्हें विद्वान लेखक ब्रजकिशोर वर्मा 'शैदी' जी की 'नौ पुस्तकों' के लोकार्पण समारोह में 4 बजे जाना था। सो निकल पड़े। ई-रिक्शा से। 5-7 मिनट में पहुँच गए, उनके घर। विवेकानंद स्कूल के पीछे, सेक्टर-तीन, राजेन्द्र नगर। दर्शन किये। अभिभूत, स्पंदित। लगभग 84 वर्षीय युवा इंद्र जी। गज़ब मुस्कान, खिलखिलाहट, जीवंतता- ऐसी कि मन मोह ले। उनकी दो-तीन बातें तो अब भी मेरे मन में हिलोरे मार रही हैं। वह बोले, 'मुझे ठीक से कुर्ता पहना दो, सजा दो, फोटो जो खिंचवानी है'; 'क्यों हनुमान (जगदीश पंकज जी), स्वर्गवाहिनी का इंतज़ाम हुआ कि नहीं?' (कार्यक्रम में जाने के लिए कैब बुकिंग के सन्दर्भ में); 'अवनीश, फिर आना, अभी मन भरा नहीं।' बड़े भाग हमारे जो उनसे मिलना हुआ। वह भी मिले तो ऐसे जैसे वर्षों से मिलना-जुलना रहा हो हमारा। क्या कहने! समय कम था, फिर भी, हमारी मुलाकात सार्थक और आनंदमय रही। ​जय-जय।


indra-4

indra-ji-1


 


Tags: Dr Abnish Singh Hindi Literature Meeting संस्मरण  अवनीश सिंह चौहान अभी मन भरा नहीं Abnish Singh Chauhan 

132 Views

0 Comments

Thursday, 26. October 2017 - 16:21 Uhr

Literary NECTAR for Competitive Examinations in English by Sudhir K Arora


Sudhir K Arora. Literary NECTAR for Competitive Examinations in English. Bareilly: Prakash Book Depot, 2017. Pp. 346. Price: Rs. 298/-. ISBN: 978-81-7977-616-2.


literary-nectar

Reviewed by Abnish Singh Chauhan
 
Dr Sudhir K Arora, an eminent critic and writer, is a popular figure in Indian Writing in English. His latest book titled 'Literary NECTAR for Competitive Examinations in English' (An Acquaintance with Major Works of Major Authors) is methodologically designed for PGT, TGT, NET and similar Examinations conducted in India. But, this is not the limit of the book and, therefore, it works beyond the limit of aforesaid competitions as the author himself remarks in his preface— “Competition is competition— competition with your own self to make yourself better day by day, and competition with others to prove yourself better in the competitive field for making your claim for success.”
 
One may think. Competition is nowhere if one believes in the philosophy of love and learning; competition is everywhere if one wants to strive for a goal which cannot be shared. In both the cases, some authentic source of information along with productive interpretation of the material is necessarily required for developing proper understanding of the subject. Knowing this, the author has produced a consistent and reliable book— 'Literary NECTAR' worth passing along to the lovers of English literature with the specific aim to make a difference in this competitive world.
 
The book is a magnificent gem that brings to light a complete study (in brief) of life and works of popular authors and critics of English literature, such as— William Shakespeare, John Milton, William Wordsworth, John Keats, P B Shelley, Matthew Arnold, Alfred Lord Tennyson, T S Eliot, Robert Lee Frost, Walt Whitman, John Milton, Charles Lamb, Charles Dickens, Thomas Hardy, Ernest Miller Hemingway, William Faulkner, John Galsworthy, Kamala Das, Mulk Raj Anand, Nissim Ezekiel, etc. It also introduces noteworthy popular quotes of these authors along with critical insights on their life and works as penned by distinguished critics of the literary field. The book also realistically and cautiously covers pen names of English authors, history of English literature (A screenshot of ages), periods of English literature, authors in history of English literature (ages/century/period wise), events (important years at a glance), popular authors and their works (with years), popular commonwealth writers, popular post-colonial writers, some British dramatists (1955 onwards), popular British dramatists and their dramas (1945-1990), some British poets (1955 onwards), some Irish poets, some Scottish poets, popular contemporary poets, popular English poets (1945-1990), some popular post-war novelists, popular contemporary novelists, popular contemporary British novelists (since 1980), popular British novels of twenty first century, popular recent novels, novelists from other literatures (around 1990) along with literary awards and winners of Nobel Prize, the Booker Prize, the Sahitya Akademi Prize, Poet Laureate, the Pulitzer Prize, etc.
 
The book 'Literary NECTAR', written in Historical Present, is a result of author’s close observations of literary world, useful communications with eminent scholars and extensive readings of significant books of English literature. It is intended for several groups— not only for students, research scholars, teachers, professors and other lovers of literature, but also for those who read merely for getting systematic information for self-learning and self-fulfillment through English literature.
 
Congrats!
 

ascAbout the Reviewer:
 
Dr Abnish Singh Chauhan (1979) is a bilingual poet, critic, translator and editor (Hindi and English). His significant books include Swami Vivekananda: Select Speeches, Speeches of Swami Vivekananda and Subhash Chandra Bose: A Comparative Study, King Lear: A Critical Study, Functional Skills in Language and Literature, Functional English, The Fictional World of Arun Joshi: Paradigm Shift in Values and Tukda Kagaz Ka (Hindi Lyrics). His deep interest in translation prompted him to translate thirty poems of B S Gautam Anurag under the title Burns Within from Hindi into English and some poems of Paddy Martin from English into Hindi. He can be contacted at abnishsinghchauhan@gmail.com.

Tags: Prakash Book Depot Literary Nectar  English Language Dr Abnish Singh Chauhan Dr Abnish Singh Competitive Examination Book Review Abnish Singh Chauhan Sudhir K Arora 

118 Views

0 Comments

Tuesday, 17. October 2017 - 16:27 Uhr

आईआईटी दिल्ली में युवा काव्य संगोष्ठी


delhi-3

 

दिल्ली : रविवार, 15 अक्टूबर 2017, भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, दिल्ली में वार्षिक सांस्कृतिक महोत्सव- 'Rendezvous 2017' के अन्तर्गत देशभर के विभिन्न शिक्षण संस्थानों से आमंत्रित छात्र-छात्राओं ने 'युवा काव्य प्रतियोगिता' में भाग लिया। संस्थान के लेक्चर थिएटर में आयोजित इस मनमोहक कार्यक्रम का शुभारम्भ साहित्यकार एवं सम्पादक अवनीश सिंह चौहान एवं युवा कवि आनंद राज द्वारा दीप प्रज्ज्वलन से हुआ।

चार दिवसीय इस कार्यक्रम में लगभग 30 समितियों के माध्यम से प्रतिभागी अलग-अलग विधाओं में अपनी प्रस्तुतियां देते हैं। हिन्दी समिति और मातृभाषा परिवार के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित 'युवा काव्य प्रतियोगिता' में देशभर के शिक्षण संस्थानों के 204 युवा कवियों ने अपनी स्व-रचित रचनाओं के माध्यम से भाग लिया और उनमें से फाइनल राउंड के लगभग 20 छात्र-छात्राओं की प्रस्तुतियों का मूल्यांकन करने के लिए अवनीश सिंह चौहान और आनंद राज को बतौर जज आमंत्रित किया गया।

फाइनल राउंड में पुष्पेंद्र भदौरिया, अविनेश सिंह, शुभम द्विवेदी, काजल, निशा शर्मा, अमन गुप्ता, ओंकार सिंह राठौर, सुधान सिंह, श्री हर्ष, नितिन शर्मा, पंकज नारायण, शिवत्म श्रीमाली, आलोक त्रिपाठी, सुधांशु कुमार, दिव्यांशु त्रिपाठी आदि ने मंच पर अपने बेहतरीन अंदाज़ में रचनापाठ किया किया। तदुपरांत प्रतियोगिता में शामिल रचनाओं के कथ्य एवं उनके प्रस्तुतीकरण के आधार पर निर्णायक मंडल के सम्मानित सदस्यों- अवनीश सिंह चौहान और आनंद राज ने अपना निर्णय सुनाया, जिसमें प्रथम और तृतीय पुरस्कार सुधान सिंह एवं ओंकार सिंह राठौर को (गीत विधा में) एवं द्वितीय पुरस्कार सुधांशु कुमार को (नयी कविता में) प्रदान किया गया।


delhi-8इस अवसर पर प्रतिभागियों द्वारा प्रस्तुत कविताओं का गंभीर विश्लेषण करते हुए मुख्य वक्ता अवनीश सिंह चौहान ने श्रोताओं का मन मोह लिया। युवा रचनाकारों को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनायें देते हुए उन्होंने कहा कि युवा रचनाकार अपनी नयी सोच के साथ काव्य जगत में कदम रख रहे हैं, जोकि स्वागत योग्य है। इस अवसर पर उन्होंने अपने दो गीत भी प्रस्तुत किये। आयोजकों का आभार व्यक्त करते हुए युवा कवि आनंद राज ने कहा कि तकनीकी संस्थान में कविता पर आयोजन करना एक अच्छी पहल कही जा सकती है। मातृभाषा पत्रिका के संचालक-सम्पादक नवनीत पाण्डेय ने प्रतिभागियों को साधुवाद दिया और कहा कि इस वैज्ञानिक युग में साहित्य से जुड़कर यदि आज के युवा कार्य करेंगे तो उनके कार्य समाज के हित में ही होंगे। मातृभाषा परिवार के महत्वपूर्ण सदस्य प्रशांत द्विवेदी ने कहा कि हमारे छात्र कविता के माध्यम से न केवल जीवन के रस को जानेंगे, बल्कि समाज को भी राह दिखाने का कार्य करेंगे।

इस अवसर पर आई आई टी, दिल्ली सहित देश के अन्य संस्थानों से पधारे छात्र-छात्राओं ने रचनापाठ और उस पर दिए गए वक्तव्य का भरपूर आनंद लिया और अतिथियों का गर्मजोशी से स्वागत-सत्कार किया। संस्थान के विद्वान् प्रोफेसर ज्योति कुमार, प्रोफेसर सम्राट मुखोपाध्याय, ऋषभ नागपाल एवं हिन्दी समिति के अध्यक्ष प्रोफेसर एच के मालिक के सान्निध्य में कार्यक्रम का विधिवत प्रबंधन एवं संयोजन भाई नवनीत पांडेय एवं निखिल चौहान (आईआईटी, दिल्ली) ने संयुक्त रूप से किया। प्रभात कुमार ने इस कार्यक्रम की सुंदर फोटोग्राफी की, जबकि सफल संचालन संस्थान के युवा छात्र वैभव वर्मा ने किया।


delhi-2delhi-6delhi-1delhi-4delhi-9


Tags: Poetry IIT Delhi IIT contest युवा काव्य प्रतियोगिता भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान 

123 Views

1 Comment



Weitere 5 Nachrichten nachladen...